अग्नि परीछा के समय
सीता के मन मे विचार आया
हूँ मैं कौन
है कौन मेरा अपना
कौन है पराया |

बड़े गर्व की थी ए बात
श्री राम तो थे मेरे साथ
नहीं, पर अब वह भी मेरे साथ नहीं
साथ अग्नि मे चले के लिए
हाथो मे मेरे, किसी का हाथ नहीं |

ऐसा क्यों, कोई हमें यह बताएगा
समाज के अत्याचारों से कौन हमें बचाएगा
जब अपनों ने ठुकराया हमें
कौन हमें अब अपनाएगा |

अनजान थी मैं इस बात से
की इस घडी मे
साया भी साथ छोड़ जायेगा
पाप करेगा कोई रावन
समाज सजा हमें सुनाएगा |

हाँ मै सीता
हर परीछा के लिए हूँ तैयार
पर बंद करो ए अन्याय
ख़त्म करों ए अत्याचार
आज यही हैं "सीता की पुकार" |


agni pariichhaa ke samay
siitaa ke man me vichaar aayaa
hoon main koun
hai koun meraa apanaa
koun hai paraayaa |

bade garv kii thii ye baat
shrii raam to the mere saath
nahiin, par ab vah bhii mere saath nahiin
saath agni me chale ke liye
haatho me mere, kisii kaa haath nahiin |

aisaa kyon, koee hamen yah bataayegaa
samaaj ke atyaachaaron se koun hamen bachaayegaa
jab apanon ne thukaraayaa hamen
koun hamen ab apanaayegaa |

anajaan thii main is baat se
kii is ghadii me
saayaa bhii saath chhod jaayegaa
paap karegaa koee raavan
samaaj sajaa hamen sunaayegaa

haan mai siitaa
har pariichhaa ke liye hoon taiyaar
par band karo ye anyaay
khtm karon ye atyaachaar
aaj yahii hain "siitaa kii pukaar" |


This entry was posted on 2:28 PM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

2 comments:

    संजय भास्कर said...

    बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

  1. ... on December 24, 2009 at 12:15 AM  
  2. संजय भास्कर said...

    SITA KI PUKAR BEHTREEN

  3. ... on December 24, 2009 at 12:16 AM