बैठ फ़िर साथ मेरे
इस बज़्म मे शामिल हो जा
वफ़ा और दगा का दौर चला
तू भी किसी कहानी मे खो जा

aa baith fir sath mere
is bazm me shamil ho ja
vafa aur daga ka daur chala
tu bhi kisi kahani me kho ja


Links to this post
मुद्दत हो गए शाकी
जाम से जाम छलकाए हुए
पैमाने छलकाए हुए
तेरे दर पे सर झुकाए हुए


muddat ho gaye shaki
jaam se jaam chalkaye hue
paimane chhalkaye hue
tere dar pe sir jhukaye hue


Links to this post
ख़ता भी वों करे,
खफा भी वों हों,
ज़िंदगी बेरंग हो जाएगी,
सितम जो ये हमपे हों...

khata bhi vo kare,
khafa bhi vo ho,
zindgi berang ho jayegi,
sitam jo ye humpe na ho...


Links to this post
किस किस पत्थर को तराशें
किस किस को खुदा बनाये
दिल दुखे जो बीके मूरत
और बेचें तो क्या खाएं

आज के भाग दौड़ की जिंदगी मे दोस्त बनते है और उनत्ति चाह मे दौड़ते हुए कही छुट जाते है पर उनकी जगह नहीबदलनी चाहिए जो की दिल मे है....

kis kis pattar ko tarashen
kis kis ko khuda banaye
dil dukhe jo beeke murat
aur na bechen to kya khayen

Friends you are there in my heart forever....missing you all...


Links to this post

बंद कर आंखों को सो जाए
मुनासिब नहीं अब किसी के लिए
हर शख्स जद्दोजेहद में लगा
वक़्त नहीं अब खुशी के लिए
ख्याल बन के रह गए फुर्सत के दिन
तमाशा है आज आदमी आदमी के लिए
मुद्दत हुए मुस्कराए हुए भी
महरूम है लब हँसी के लिए
आब-ऐ-चश्म कही खो गए
तरसी है आखें अब नमी के लिए
नदीम कन्धों पे चढ़ कर आज
हाथ फैलाते है कामयाबी के लिए
रुखसार के बदलते रंग देखो
ऐतबार-ऐ-आशना मुमकिन नहीं बिस्मिल के लिए
दिल में जगह हम किसी से क्या मांगे
इनकार करती है ज़मी अब दफ़न के लिए
बंद कर आंखों को सो जाए
मुनासिब नहीं अब किसी के लिए .....

band kar aankhon ko so jayen
munasib nahi ab kisi ke liye

har shakhs jaddozehad me laga
vaqt nahi ab khushi ke liye
khayal ban ke rah gaye fursat ke din
tamaashaa hai aaj aadmi aadmi ke liye
muddat hue muskaraye hue bhi
mahroom hai lab hansi ke liye
aab-e-chashm kahi kho gaye
tarsi hai aakhen ab nami ke liye
nadeem kandhon pe chad kar aaj
hath failate hai kaamyabi ke liye
rukhsaar ke badalte rang dekho
aitbaar-e-aashana mumkin nahi bismil ke liye
dil me jagah hum kisi se kya mange
inkaar karti hai zami ab dafan ke liye
band kar aankhon ko so jaye
munasib nah iab kisi ke liye



Links to this post