तोड़ दे कसमे, वादे न निभा,
सभी बंधनो को, दे अब भुला,
दूर सही पर, इंतज़ार अब भी है
अब तो मिलजा मुझसे, मेरी बन जा |

tod de kasme, vaade na nibha,
sabhi bandhno ko, de ab bhula,
dur sahi par, intezaar ab bhi hai
ab to milja mujhse, meri ban ja |

www.kavyalok.com
Please visit, register, give your post and comments.


Links to this post
ये तो जिद थी आजमाने की
वर्ना हिम्मत कहाँ थी ज़माने की
हम तो यूं भी खाख हों जाते
जरूरत थी तो बस मुस्कुराने की

www.kavyalok.com
Please visit, register, give your post and comments.


Links to this post


चुरा के रंग भरा होगा होगा गुलाबों ने
जो तेरा चेहरा शर्म से लाल हों गया |
दिल की दुनिया में शान्ति बड़ी थी
तू मुस्कुराई और फिर बवाल हों गया |

chura ke rang bhara hoga hoga gulabo ne
jo tera chehra sharm se laal ho gaya |
dil ki duniya me shanti badi thi
tu muskuraee aur fir bavaal ho gaya |

www.kavyalok.com
Please visit, register, give your post and comments.


Links to this post
चाहत इतनी बढ़ी की नासूर हों गए
हम तेरी यादो से भी अब दूर हों गए
छुपाये फिरते थे तस्वीर तेरी आखों में
जागे यूं की ख़वाब सभी टूट के चूर हों गए

chahat itni badhi ki nasur ho gaye
hum teri yaado se bhi ab dur ho gaye
chupaye firte the tasvir teri aakhon me
jaage u ki khavab sabhi tut ke chur ho gaye

www.kavyalok.com
Please visit, register, give your post and comments.


Links to this post


न चाहूँ फिर भी निकल आते है, क्यों तेरे आँसू
मेरी भी पलके भिगो जाते है, क्यों तेरे आँसू

na chahun fir bhi nikal aate hai, kyo tere aansu
meri bhi palke bhigo jaate hai, kyo tere aansu

www.kavyalok.com
Please visit, register, give your post and comments.


Links to this post
बला बड़ी खूबसूरत, बेहद हसीं होती है
सजती सवरती है, बहुत शौखीन होती है
दोस्त कहते है, मीठी-कुछ नमकीन होती है
ये मनोरम शाम, अधिकांश ग़मगीन होती है

bala badi khubsurat, behad hasin hoti hai
sajti savarti hai, bahut sukhin hoti hai
dost kahte hai, mithi kuch namkeen hoti hai
ye manoram sham, adhikans gamgeen hoti hai

आनंद
www.kavyalok.com
Please visit, register, give your post and comments।


Links to this post