महबूबा मिली मुझे, मैं महबूब बना
मेरी किस्मत का तमाशा भी खूब बना
बनू मैं किसी का खिलौना या घुंगरू
यही सोच उसने मुझे बनाया होगा
बना कर मुझको वों भी शरमाया होगा
भेज कर जमी पर मुझको पछताया होगा
मै खुद के काम आया किसी और के
क्या करूँगा वापिस जाकर यह सोच घबराया होगा |

बना कर मुझको अपनी भूल का उसे जो एहसास हुआ
किस्मत मेरी लिखी ऐसी, अपनी लिखाई पे वों नाराज़ हुआ
क्या दे मुझे की मैं खुद मे ही उलझा रहूँ
यही सोच कर खुदा ने मुझे, गमे--जाम थमाया होगा
अंतिम वक़्त मेरा भी होगा, मुझको भी रुखसत होना
होगा
पर लगे किसी को मेरी तक़दीर की हवा
भी
यही सोचकर लोगो ने "आनंद" को दफनाया होगा |

mahaboobaa milii n mujhe, n mai mahaboob banaa
merii kismat kaa tamaashaa bhii khoob banaa
banoo main kisii kaa khilounaa yaa ghungaroo
yahii soch usane mujhe banaayaa hogaa
banaa kar mujhako von bhii sharamaayaa hogaa
bhej kar jamii par mujhako pachhataayaa hogaa
n mai khud ke kaam aayaa n kisii aur ke
kyaa karoongaa vaapis jaakar yah soch ghabaraayaa hogaa |

banaa kar mujhako apanii bhool kaa use jo yehasaas huaa
kismat merii likhii aisii, apanii likhaaee pe von naaraaj huaa
kyaa de mujhe kii main khud me hii ulajhaa rahoon
yahii soch kar khudaa ne mujhe, game-ye-jaam thamaayaa hogaa
antim vaqt meraa bhii hogaa, mujhako bhii rukhasat honaa
hogaa
par lage n kisii ko merii taqadiir kii havaa
bhii
yahii sochakar logo ne "aanand" ko daphanaayaa hogaa |


Links to this post
हूँ मैं खफां, हुस्न की बेवफायो से
जिसे इश्क अक्सर बर्दास्त करता है
हूँ मैं खफां, सागर सी आँखों की गहरा से
जिनमे अक्सर मैं डूब जाता हूँ
हूँ मैं खफां, उन तनहा से
जिनमे तनहा मै रहता हूँ
हूँ मैं खफां, उन मस्त अंगडाई से
जिन्हें भोलेपन से तुम लेती हों
हूँ मैं खफां, उन मीठी बातों से
जो तुम इतरा कर मुझ करती हों
हूँ मैं खफां, उन अँधेरी रातों से
जिनमे मुझे तुम्हारी याद सताती है
हूँ मैं खफां, उन मौजी बहारों से
जो तुम्हारे साथ ही चली जाती हैं
हूँ मैं खफां...हूँ मैं खफां...


hoon
main khaphaan,
husn kii bevaphaaiyo se
jise ishk aksar bardaast karataa hai
hoon main khaphaan, saagar sii aankhon kii gaharaaio se
jiname aksar main doob jaataa hoon
hoon main khaphaan, un tanahaaeeo se
jiname tanahaa mai rahataa hoon
hoon main khaphaan, un mast angadaaeeo se
jinhen bholepan se tum letii hon
hoon main khaphaan, un miithii baaton se
jo tum itaraa kar mujh karatii hon
hoon main khaphaan, un andherii raaton se
jiname mujhe tumhaarii yaad sataatii hai
hoon main khaphaan, un moujii bahaaron se
jo tumhaare saath hii chalii jaatii hain
hoon main khaphaan...hoon main khaphaan...



Links to this post
शौख्न मुझे भी था
एक गर्लफ्रेंड बनाने का
कुछ उसे समझने का
कुछ उसे समझाने का
शौख्न मुझे भी था
एक गर्लफ्रेंड बनाने का |

मन मे किया एक निश्चय
दिल को किया कठोर
कापते हुए अधरों से
उसको दिया बोल
डर था पारा चढ़ेगा
जोड़दार एक झापड़ पड़ेगा
देख मैं हैरान खरा था
उसका चेहरा प्यार से भरा था
वों बोली करीब आके
आज दिन है राखी बंधवाने का
बना था उस दिन मै धावक
लछ्य था आज, अवल आने का
शौख्न मुझे भी था
एक गर्लफ्रेंड बनाने का |

हार मैंने अब भी न मानी
पसंद की एक नई जनानी
उम्र थी उसकी अठरह की
पर दिल रखती थी पत्थर की
हम भी थे कवि उस्ताद
चखाया उसको अपने
गम भरे कविता का स्वाद
दिल तो उसका पिघलना ही था
लगा जैसे हमको मिलना ही था
आँखों मे थे उसके आंसूं
और हाथों मे मेरे हाथ
वों बोली अब तुझे मैं न जाने दूंगी
अची तेरी खातिरदारी करुँगी
मै मरूंगी तुझे जुतिया
लोगो से तू खाएगा लात
बस इतनी सुननी थी बात
की लगा था मुझको खुद
काल ने लगाया था मुझ पे घात
मुझ सा आशिक बेचारा क्या करे
जब वक़्त ही नहीं देता था साथ
बस वों दिन था और आज का
भूल गया मै गर्लफ्रेंड बनाने के बात
तभी तो, ब्रह्मचारी हैं आनंद आज |

shoukhn mujhe bhii thaa
yek garlaphrend banaane kaa
kuchh use samajhane kaa
kuchh use samajhaane kaa
shoukhn mujhe bhii thaa
yek garlaphrend banaane kaa |

man me kiyaa yek nishchay
dil ko kiyaa kathor
kaapate huye adharon se
usako diyaa bol
dar thaa paaraa chadegaa
joddaar yek jhaapad padegaa
dekh main hairaan kharaa thaa
usakaa cheharaa pyaar se bharaa thaa
von bolii kariib aake
aaj din hai raakhii bandhavaane kaa
banaa thaa us din mai dhaavak
lachhy thaa aaj, aval aane kaa
shoukhn mujhe bhii thaa
yek garlaphrend banaane kaa |

haar mainne ab bhii n maanii
pasand kii yek naee janaanii
umr thii usakii atharah kii
par dil rakhatii thii patthar kii
ham bhii the kavi ustaad
chakhaayaa usako apane
gam bhare kavitaa kaa svaad
dil to usakaa pighalanaa hii thaa
lagaa jaise hamako milanaa hii thaa
aankhon me the usake aansoon
aur haathon me mere haath
von bolii ab tujhe main n jaane doongii
achii terii khaatiradaarii karungii
mai maroongii tujhe jutiyaa
logo se too khaayegaa laat
bas itanii sunanii thii baat
kii lagaa thaa mujhako khud
kaal ne lagaayaa thaa mujh pe ghaat
mujh saa aashik bechaaraa kyaa kare
jab vaqt hii nahiin detaa thaa saath
bas von din thaa aur aaj kaa
bhool gayaa mai garlaphrend banaane ke baat
tabhii to, brahmachaarii hain aanand aaj |







Links to this post
जब हम कहते तो हैं
पर वों समझते नहीं
जब वों समझते हैं
तो वों मानते नहीं
जब वों मानते हैं
तो वों पहचानते नहीं
जब वों पहचानते हैं
तो वों इकरार करते नहीं
जब इकरार करते हैं
बहुत देर हों चुकी होती है
तो दोस्तों ,
यही है प्यार का चक्कर |


jab ham kahate to hain
par von samajhate nahiin
jab von samajhate hain
to von maanate nahiin
jab von maanate hain
to von pahachaanate nahiin
jab von pahachaanate hain
to von ikaraar karate nahiin
jab ikaraar karate hain
bahut der hon chukii hotii hai
to doston ,
yahii hai pyaar kaa chakkar |


Links to this post
अग्नि परीछा के समय
सीता के मन मे विचार आया
हूँ मैं कौन
है कौन मेरा अपना
कौन है पराया |

बड़े गर्व की थी ए बात
श्री राम तो थे मेरे साथ
नहीं, पर अब वह भी मेरे साथ नहीं
साथ अग्नि मे चले के लिए
हाथो मे मेरे, किसी का हाथ नहीं |

ऐसा क्यों, कोई हमें यह बताएगा
समाज के अत्याचारों से कौन हमें बचाएगा
जब अपनों ने ठुकराया हमें
कौन हमें अब अपनाएगा |

अनजान थी मैं इस बात से
की इस घडी मे
साया भी साथ छोड़ जायेगा
पाप करेगा कोई रावन
समाज सजा हमें सुनाएगा |

हाँ मै सीता
हर परीछा के लिए हूँ तैयार
पर बंद करो ए अन्याय
ख़त्म करों ए अत्याचार
आज यही हैं "सीता की पुकार" |


agni pariichhaa ke samay
siitaa ke man me vichaar aayaa
hoon main koun
hai koun meraa apanaa
koun hai paraayaa |

bade garv kii thii ye baat
shrii raam to the mere saath
nahiin, par ab vah bhii mere saath nahiin
saath agni me chale ke liye
haatho me mere, kisii kaa haath nahiin |

aisaa kyon, koee hamen yah bataayegaa
samaaj ke atyaachaaron se koun hamen bachaayegaa
jab apanon ne thukaraayaa hamen
koun hamen ab apanaayegaa |

anajaan thii main is baat se
kii is ghadii me
saayaa bhii saath chhod jaayegaa
paap karegaa koee raavan
samaaj sajaa hamen sunaayegaa

haan mai siitaa
har pariichhaa ke liye hoon taiyaar
par band karo ye anyaay
khtm karon ye atyaachaar
aaj yahii hain "siitaa kii pukaar" |


Links to this post
सुनसान सी सडकों पर
जब कोई चींख उभरती है
तब किसी की आँखें हँसतीं है
तो किसी की आँखें रोती हैं

झोपड़ो पे जब, तेल गिराया जाता है
और उसमे आग लगाया जाता है
तब झोपड़ो के साथ
किसी का पेट भी जलाया जाता है
तब कोई ख़ुशी से हँसता है
तो कोई मातम मनाता है |

जब दंगों में, बच्चे भी कटते हैं
भारत के भविष्य के सपने उजरते हैं
जब भाई भाई ,धर्म के नाम पे लड़ते हैं
तब कहीं कोई तख्ती पलटती है
तो कोई कुर्सी हड़पता है |

इस तरह इंसान जब जब
किसी सतरंज की मोहरे बनते
हैं
तब कहीं
जनता की भीड़ से ही
भगत, सुभाष और गाँधी निकलते हैं
तब कोई उन्हें सर माथे बैठता है
तो कोई डर के मूह छुपता है |

इसलिए हों जाओ सावधान
इसका सिर्फ एक है समाधान
नेता किसी लालच मे नहीं
बल्कि बुद्धि से चुनो श्रीमान
वर्ना होगा हमेशा अपना ही नुकसान |


sunasaan sii sadakon par
jab koee chiinkh ubharatii hai
tab kisii kii aankhen hansatiin hai
to kisii kii aankhen rotii hain

jhopado pe jab, tel giraayaa jaataa hai
aur usame aag lagaayaa jaataa hai
tab jhopado ke saath
kisii kaa pet bhii jalaayaa jaataa hai
tab koee khushii se hansataa hai
to koee maatam manaataa hai |

jab dangon men, bachche bhii katate hain
bhaarat ke bhavishy ke sapane ujarate hain
jab bhaaee bhaaee ,dharm ke naam pe ladate hain
tab kahiin koee takhtii palatatii hai
to koee kursii hadpataa hai |

is tarah insaan jab jab
kisii sataranj kii mohare banate
hain
tab kahiin
janataa kii bhiid se hii
bhagat, subhaash aur gaandhii nikalate hain
tab koee unhen sar maathe baithataa hai
to koee dar ke mooh chhupataa hai |

isaliye hon jaao saavadhaan
isakaa sirph yek hai samaadhaan
netaa kisii laalach me nahiin
balki buddhi se chuno shriimaan
varnaa hogaa hameshaa apanaa hii nukasaan |




Links to this post
दुश्मनों को बेहाल कर देगा समय आने पर
माँ आपका बेटा धरती को लाल कर देगा समय आने पर

सीमा पे बिछ जायेंगीं लाशें दुश्मनों की
वहा लाशों का ढेर लगा देगा समय आने पर
माँ आपका बेटा धरती को लाल कर देगा समय आने पर

टूट जायेंगें ख़वाब उनके, होके चकनाचूर
उनको नींद से जगा देगा समय आने पर
माँ आपका बेटा धरती को लाल कर देगा समय आने पर

हम तो चाहते हैं प्यार अब भी, पर वों दुश्मनी चाहें तो
उनको दुश्मनी भी दिखा देगा समय आने पर
माँ आपका बेटा धरती को लाल कर देगा समय आने पर

dushmanon ko behaal kar degaa samay aane
par
maan aapakaa betaa dharatii ko laal kar degaa samay aane par

siimaa pe bichh jaayengiin laashen dushmanon kii
vahaa laashon kaa der lagaa degaa
samay aane par
maan aapakaa betaa dharatii ko laal kar degaa samay aane par

toot jaayengen khvaab unake, hoke chakanaachoor
unako niind se jagaa degaa samay aane par
maan aapakaa betaa dharatii ko laal kar degaa samay aane par

ham to chaahate hain pyaar ab bhii, par von dushmanii chaahen to
unako dushmanii bhii dikhaa degaa samay aane par
maan aapakaa betaa dharatii ko laal kar degaa samay aane par



Links to this post
समय समय पर
जब प्रकृति का मनन चाहा
बाढ़ भूकंप आकाल हुआ
हमने जाननेकी लाख कोशिश की
हमने रोकने की लाख कोशिश की
पर रुका प्रलय काल हुआ
यहाँ लाशों का बाज़ार हुआ |

ऊपर हमने सैटेलाईट छोड़े
निचे भी हमने यन्त्र लगाये
पर आना था जब प्रलय को
सारे कुछ कर पाए
निर्दयता से मानव शिकार हुआ
यहाँ लाशों का बाज़ार हुआ |

हम सामान तो फिर जुटा लेंगें
इमारते फिर उठा लेंगें
सपनो को सजा लेंगें
पर उसका क्या करेंगें
जो नर संघार हुआ
यहाँ लाशों का बाज़ार हुआ |

अरे नादान अब तो जाग
प्रेम कर प्रकृति से, इससे भाग
वर्ना होगा वाही जो हर बार हुआ
यहाँ लाशों का बाज़ार हुआ |

samay samay par
jab prakriti kaa manan chaahaa
baad bhookanp aakaal huaa
hamane jaananekii laakh koshish kii
hamane rokane kii laakh koshish kii
par rukaa n ye pralay kaal huaa
yahaan laashon kaa baazaar huaa |

oopar hamane saitelaaeet chhode
niche bhii hamane yantr lagaaye
par aanaa thaa jab pralay ko
ye saare kuchh kar n paaye
nirdayataa se maanav shikaar huaa
yahaan laashon kaa baazaar huaa |

ham saamaan to phir jutaa lengen
imaarate phir uthaa lengen
sapano ko sajaa lengen
par usakaa kyaa karengen
jo ye nar sanghaar huaa
yahaan laashon kaa baazaar huaa |

are naadaan ab to jaag
prem kar prakriti se, n isase bhaag
varnaa hogaa vaahii jo har baar huaa
yahaan laashon kaa baazaar huaa |






Links to this post
हमसफ़र हमसे रूठ कर चले जा रहे थे
वों आगे जा रहे थे, हम पीछे रहे थे
यूं तो हम मे दूरियां थी कुछ खास
फिर भी हम उन्हें पकर पा रहे थे
आँखों से ओझल हों जाते थे फिर भी
पलकें गिरते ही आखों मे बस जा रहे थे
हुए है ख़ता हमसे जाने
कहाँ
क्यों हम उन्हें मना न पा रहे थे
हमसफ़र हमसे रूठ कर चले जा रहे थे
वों आगे जा रहे थे, हम पीछे जा रहे थे

hamasafar
hamase rooth kar chale jaa rahe the
von aage jaa rahe the, ham piichhe aa rahe the
yoon to ham me dooriyaan n thii kuchh khaas
phir bhii ham unhen pakar n paa rahe the
aankhon se ojhal hon jaate the phir bhii
palaken girate hii aakhon me bas jaa rahe the
huye hai khtaa hamase jaane
kahaan
kyon ham unhen manaa n paa rahe the
hamasafar hamase rooth kar chale jaa rahe the
von aage jaa rahe the, ham piichhe jaa rahe the





Links to this post
वों पर्वत ऊंचे ऊंचे
वों वादियाँ
वों बर्फ का नज़ारा
सपनो सा सुन्दर
एक झील का किनारा
जहाँ घर हों हमारा |

वों गाती हुए नदियाँ
वों बादलो का मेला
वों झरनों का सुन्दर नज़ारा
एक झील का किनारा
जहाँ घर हों हमारा|

वों चिड़ियों का चहकना
वों फूलों का महकना
वों भवरों का बहकना
हम बने एक दूजे का सहारा
एक झील का किनारा
जहाँ घर हों हमारा|

वों झीलों मे कश्ती
वों कश्ती मे परियां
वों परियों से सुन्दर
तुम्हारा नज़र आना
एक झील का किनारा
जहाँ घर हों हमारा|

von parvat oonche
oonche
von vaadiyaan
von barph kaa nazaaraa
sapano saa sundar
yek jhiil kaa
kinaaraa
jahan ghar ho hamara

von gaatii huye nadiyaan
von baadalon kaa melaa
von jharanon kaa sundar nazaaraa
yek jhiil kaa kinaaraa
jahan ghar ho hamara

von chidiyon kaa chahakanaa
von phoolon kaa mahakanaa
von bhavaron kaa bahakanaa
ham bane yek dooje ka sahara
yek jhiil kaa kinaaraa
jahan ghar ho hamara

vo jhilon me kasti
vo kashti me pariyan
vo pariyon se sundar
tumhara nazar aana
yek jhiil kaa kinaaraa
jahan ghar ho hamara






Links to this post
आप आये थे घर मे हमारे
मारे हर्ष के हम फूले समां रहे थे
आप माँ के साथ बैठें थें हमारे
इसलिए हम थोडा शरमा रहे थे
फिर भी बना के कोई बहाना
देखने आपको कमरे तक रहे थे
कभी पढ़ते थे कोई कहानी
कभी गाने आपकी पसंद के बजा रहे थे
जितने पास थे आप हमारे
उतनी दूर हम आपको पा रहे थे
आपसे दुरी नाम भर की थी
फिर भी आपसे मिलने को
हम तो मरे जा रहे थे...

aap aaye the ghar me hamare
mare hursh ke hum phoole na sama rahe the
aap ma ke sath baithen thenhamare
isliye hum thoda sharma rahe the
phir bhi bana ke koi bahana
dekhne aapko kamre tak aa rahe the
kabhi padhate the koi kahani
kabhi gaane aapki pasand ke baja rahe the
jitne pas the aap hamare
utni dur hum aapko pa rahe the
aapse duri naam bhar ki thi
fir bhi aapse milne ko
hum to mre ja rehe the...


Links to this post
नींद से हैं जागे, आँखें बंद सी थी
ये सवेरा कही, आपके आने से तो नहीं

niind se hain jaage, aankhen band sii thii
ye saveraa kahi, aapake aane se to nahiin


Links to this post
प्यार करना यारों
प्यार मे धोखा खाओगे
मैंने तो सह लिया
शायद तुम सह पाओगे
अपनी तो आदत है
ठोकरों मे जीने की
तुम ठोकर खाना यारों
टुकड़ो मे बट जाओगे
तुम सोचते होगे शायद
वों तुम्हे चाहते है बहुत
तुम दिल लगना यारों
निराशा ही तुम पाओगे
मै ये नही कहता की
बेवफा है सिर्फ़ यहाँ
पर तुम वफ़ा तलाशना यारों
गमो मे खो जाओगे
प्यार करना यारों
प्यार मे धोखा खाओगे
pyaar na karna yaaron
pyaar me dhokha khaoge
maine to sah liya
shayd tum na sah paaooge
apni to aadat hai
thokaron me jeene ki
tum thokar na khana yaaron
tukado me bat jaoogekhaoge
tum sochte hoge shayd
vo tumhe chahte hai bahut
tum dil na lagana yaaron
nirasha hi tum paooge
mai ye nahi kahta ki
bevafa hai sirf yahan
pr tum vafa na talashna yaaron
gamo me kho jaooge
pyaar na karna yaaron
pyaar me dhokha khaooge


Links to this post
उसे सोच के जो
ख़त लिखता हूँ
ख़ुद कविता बन जाती है
झूमती मस्ती मे मुझे
याद अब भी वों(गगन) आती है
शर्माती है वैसे ही
थोरा घबराती है
आके रातों को सपनो मे
मुझे जगा जाती है
जाने क्यो मुझे वों
इतना सताती है
ऐसा करके भी वों
कैसे हँस पाती है
उसे सोच के जो...

use soch ke jo
khat likhta hun
khud kavita ban jati hai
jhumti masti me mujhe
yaad ab bhi vo(gagan) aati hai
sharmaati hai vaise hi
thora ghabraati hai
aake raaton ko sapno me
mujhe jaga jaati hai
jaane kyo mujhe vo
itna sataati hai
aisa karke bhi vo
kaise has paati hai
use soch ke jo...


Links to this post
उल्फत का आलम
मोहब्बत का मौसम
जवानी सोलह सत्रह की
उस पे ये सावन
ये सावन का पानी
तेरी चढ़ती जवानी
ये जवानी की रातें
करती है बातें
बातों मे रांझा
रान्झें के साथ हीर
तू लैला है मेरी
मैं तेरा फकीर
ulfat ka aalam
mohabbat ka mausam
jawani solah satrah ki
us pe ye sawan
ye sawan ka paani
teri chadhti jawaani
ye jawaani ki raaten
karti hai baaten
baato meraanjha
raanjhen ke sath heer
tu laila hai meri
main tera fakir


Links to this post
मैं समझा बहार आई
जब उन्होंने ली अंगड़ाई
गगन मे फैला उजाला
जब उन्होंने नज़र उठाई
दिल मेरा चुराया उन्होंने
जब हसी उनके लबो पे आई
हाय हम तो मर ही गए
नज़र मिलने पे जब वों शरमाई

main samajhaa bahaar aaee
jab unhonne lii angadaaee
gagan me phailaa ujaalaa
jab unhonne nazar uthaaee
dil meraa churaayaa unhonne
jab hasii unake labo pe aaee
haay ham to mar hii gaye
nazar milane pe jab von sharamaaee


Links to this post
हाल दिल
सुनाने का दिल करता है
यह उन्हें बताने को दिल करता है
रूठे साजन को मानाने को दिल करता है
है प्यार क्या चीज़
यह उन्हें समझाने को दिल करता है
है वों कैसी
तारीफ उन्हें सुनाने का दिल करता है
सपने मे आते हैं वों हमारे
उन्हें बताने को दिल करता है
उनके सूने मांग को सज़ाने को दिल करता है
रसीले होंठ है उनके
जिनके रसों को चुराने का दिल करता है
सुंदर सा मुखड़ा है उनका
जिसे आखों मे बसने का दिल करता है
नज़र लग जाए न दुनिया की उन्हें
सबकी नज़रों से उन्हें बचने को दिल करता है
पर सामने आते ही हमारा हाल होता है ऐसा
शर्म से मर जाने का दिल करता है

haal ye dil
sunaane kaa dil karataa hai
yah unhen bataane ko
dil karataa hai
ruthe saajan ko manane ko dil karta hai
hai pyaar kya cheez
yah unhen samjhane ko dil karta hai
hai vo kaisi
tarif unhen sunane ka dil karta hai
sapne me aate hain vo hamare
unhe bataane ko dil karta hai
unke sunemaang ko sazaane ko dil karta hai
rasile honth hai unke
jinke rason ko churane ka dil karta hai
sundar sa mukhada hai unka
jise aakhon me basane ka dil karta hai
nazar lag jaye na duniya ki unhen
sabki nazron se unhen bachane ko dil karta hai
pr saamne aate hi hamara haal hota hai aisa
sharm se mar jaane kaa dil kartaa hai




Links to this post
उनसे मिलने को य़ू बेताब हो जाना
उनके पास आते ह़ी होंठों का सिल जाना
नाम बस उन्हीं का हर वक़्त गुनगुनाना
उनकी हर अदाओं का हमें भाना
उनका मुस्करा के करना हमें दीवाना
उनका य़ू नज़रें मिला के नज़रें झुकाना
रातों को उनका सपनो मे आना
........................................क्या यहीं प्यार है
unse milne ko yu betaab ho jaana
unke paas aate hi honthon ka sil jana
naam bas unhin ka har vaqt gungunana
unki har adaaoon ka hame bhana
unka muskara ke karna hame dewana
unka yu nazaren mila ke nazaren jhukana
raaton ko unka sapno me aana
........................................kya yahin pyar hai


Links to this post
नशीली आँखें हैं आपकी
इन मे डूब जाने का दिल करता है
रसीले होंठ है आपके
इन्हें चूमने का दिल करता है
जुल्फ़े घटा सावन की
इनमे भीग जाने का दिल करता है
हंसीं मुखड़ाये है आपका
इन्हें आखों मे बसाने का दिल करता है
फूलों का बदन है आपका
इन्हें बाहों मे भर लेने का दिल करता है
कातिल जवानी है आपकी
बस मर जाने को
दिल करता है
ये जो दिल है आपका
इनमे बस जाने का
दिल करता है

nashiilii aankhen hain aapakii
in me doob jaane kaa dil karataa hai
rasiile honth hai aapake
inhen choomane kaa dil karataa hai
julfe ghataa saavan kii
iname bhiig jaane kaa dil karataa hai
hansiin mukhadaaye hai aapakaa
inhen aakhon me basaane kaa dil karataa hai
phoolon kaa badan hai aapakaa
inhen baahon me bhar lene kaa
dil karataa hai
kaatil javaanii hai aapakii
bas mar jaane ko
dil karataa hai
ye jo dil hai aapka
inme bas jaane ka
dil karataa hai


Links to this post
एक तो शराब
उस पे तेरा शवाब
बचा है कोई इनसे
बच सकेगा जनाब
कातिल है हर अदा तेरी
जाने किस अदा पे
किसकी जान जाए
पास आए तू दो पल के लिए
फिर जाने कहा खो जाए
ख़्वाबों मे आके तू
मुझे रातों को जगाये
सिने से लग जा तू
की दिल को करार जाए

ek to sharaab
us pe tera shavab
n bacha hai koi inse
n bach sakega janab
kaatil hai har ada teri
jaane kis ada pe
kiski jaan jaye
paas aaye tu do palke liye
phir jaane kaha kho jaye
khvaabon me aake tu
mujhe raaton ko jagaye
aa sine se lag ja tu
ki dil ko karar aa jaye


Links to this post
फौजी है देश की शान
देश की रक्षा के लिए
जो सरहद पे देते है जान
भारत माता के चरणों में
भेंट शीश की चढाते हैं
हँसते हँसते फौजी
मौत को भी गले लगाते हैं
भारत माँ पे बुरी नज़र डालने वाले को
सरहद से मार भगाते हैं
देश कीइज्ज़त के लिए
गोली सीने में खाते हैं
जब जब आती है देश आफत
आसमान को भी क़दमों में झुकाते हैं
इनकी धड़कन की आवाज से
पर्वत तक हिल जाते हैं
हिंदू मुस्लिम सिख इसाई
सब हैं भाई भाई
भाईचारे के इस नाते को
ये जीवन भर निभाते हैं
साथ में मिलजुल कर
अपना जीवन यें बिताते हैं
भारत माँ के आंखों के तारे
अपनी माँ के भी है दुलारे
फौजी है देश की शान
देश सेवा में जीवन कुर्बान
माँ तुझे सलाम...
माँ तुझे सलाम...

phauji hai desh ki shaan
desh ki raksha ke liye
jo sarhad pe dete hai jaan
bharat mata ke charno me
bhenth shish ki chadhate hain
hanste hanste phauji
mauth ko bhi gale lagaate hain
bharat ma pe buri nazar dalne vale ko
sarhad se maar bhagaate hain
desh kiizzat ke liye
goli seene me khaate hain
jab jab aati hai desh aafat
aasmaan ko bhi kadmon me jhukaate hain
inki dhadkan ki aawaaj se
parvat tak hil jaate hain
hindu muslim sikh esaaee
sab hain bhai bhai
bhaichare ke is naate ko
ye jiwan bhar nibhate hain
sath me miljul kar
apna jiwan yen bitate hain
bharat ma ke aankhon ke taare
apni ma ke bhi hai dulaare
phauji hai desh ki shaan
desh seva me jivan kurbaan
maa tujhe salaam...
maa tujhe salaam...


Links to this post
देखा जो मुड़ कर उन्होंने
घर के तरफ हमारे

तो दिल चाहा की ला दे

तोड़ कर उनके लिए चाँद तारे

सजा दे बालो मे उनके

बना के गजरे प्यारे प्यारे

बैठा के सामने उन्हें

बस यों ही निहारे…

बस यों ही निहारे…



dekha jo mud kar unhone

ghar ke tarf hamare

to dil chahaa ki la de

tod kar unke liye chand tare

saja de baalo me unke

bana ke gajre pyare payare

baitha ke samne unhe

bus yon hi nihaare…

bus yon hi nihaare…



Links to this post
ये मेरे यार, करना है तुझे प्यार
बस दिल मे यही बात आती है

आके सपनो मे तू मेरे
रातों को जगाजाती है
सिर्फ़ चाहता हूँ मै ही तुझे या
तू भी मुझे दिल मे बसती है
जवाब कुछ भी हो
तू क्यो नही मुझे बताती है
क्या डरती है तू? या शर्माती है?
मानता
हूँ तू खूबसूरत हैं बहुत
अपनी गिनती भी बुरे मे नहींआती है
ये मेरे यार, करना है तुझे प्यार
बस दिल मे यही बात आती है

ye mere yaar, karna hai tujhe pyar
bus dil me yahi baat aati hai

aake sapno me tu mere

raaton ko jagaajaati hai

sirf chahta hun mai hi tujhe ya

tu bhi mujhe dil me basati hai

javaab kuch bhi ho

tu kyo nahi mujhe batati hai

kya darti hai tu? ya Sharmati hai?

Manta hu tu khubsurat hain bahut

apni ginti bhi bure me nahiaati hai

ye
mere yaar, karna hai tujhe pyar
bus dil me yahi baat aati hai



Links to this post