हूँ मैं खफां, हुस्न की बेवफायो से
जिसे इश्क अक्सर बर्दास्त करता है
हूँ मैं खफां, सागर सी आँखों की गहरा से
जिनमे अक्सर मैं डूब जाता हूँ
हूँ मैं खफां, उन तनहा से
जिनमे तनहा मै रहता हूँ
हूँ मैं खफां, उन मस्त अंगडाई से
जिन्हें भोलेपन से तुम लेती हों
हूँ मैं खफां, उन मीठी बातों से
जो तुम इतरा कर मुझ करती हों
हूँ मैं खफां, उन अँधेरी रातों से
जिनमे मुझे तुम्हारी याद सताती है
हूँ मैं खफां, उन मौजी बहारों से
जो तुम्हारे साथ ही चली जाती हैं
हूँ मैं खफां...हूँ मैं खफां...


hoon
main khaphaan,
husn kii bevaphaaiyo se
jise ishk aksar bardaast karataa hai
hoon main khaphaan, saagar sii aankhon kii gaharaaio se
jiname aksar main doob jaataa hoon
hoon main khaphaan, un tanahaaeeo se
jiname tanahaa mai rahataa hoon
hoon main khaphaan, un mast angadaaeeo se
jinhen bholepan se tum letii hon
hoon main khaphaan, un miithii baaton se
jo tum itaraa kar mujh karatii hon
hoon main khaphaan, un andherii raaton se
jiname mujhe tumhaarii yaad sataatii hai
hoon main khaphaan, un moujii bahaaron se
jo tumhaare saath hii chalii jaatii hain
hoon main khaphaan...hoon main khaphaan...



This entry was posted on 6:07 PM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

2 comments:

    संजय भास्कर said...

    हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

  1. ... on January 5, 2010 at 8:55 AM  
  2. संजय भास्कर said...

    बहुत बहुत बधाई...

  3. ... on January 13, 2010 at 3:34 AM