फौजी है देश की शान
देश की रक्षा के लिए
जो सरहद पे देते है जान
भारत माता के चरणों में
भेंट शीश की चढाते हैं
हँसते हँसते फौजी
मौत को भी गले लगाते हैं
भारत माँ पे बुरी नज़र डालने वाले को
सरहद से मार भगाते हैं
देश कीइज्ज़त के लिए
गोली सीने में खाते हैं
जब जब आती है देश आफत
आसमान को भी क़दमों में झुकाते हैं
इनकी धड़कन की आवाज से
पर्वत तक हिल जाते हैं
हिंदू मुस्लिम सिख इसाई
सब हैं भाई भाई
भाईचारे के इस नाते को
ये जीवन भर निभाते हैं
साथ में मिलजुल कर
अपना जीवन यें बिताते हैं
भारत माँ के आंखों के तारे
अपनी माँ के भी है दुलारे
फौजी है देश की शान
देश सेवा में जीवन कुर्बान
माँ तुझे सलाम...
माँ तुझे सलाम...

phauji hai desh ki shaan
desh ki raksha ke liye
jo sarhad pe dete hai jaan
bharat mata ke charno me
bhenth shish ki chadhate hain
hanste hanste phauji
mauth ko bhi gale lagaate hain
bharat ma pe buri nazar dalne vale ko
sarhad se maar bhagaate hain
desh kiizzat ke liye
goli seene me khaate hain
jab jab aati hai desh aafat
aasmaan ko bhi kadmon me jhukaate hain
inki dhadkan ki aawaaj se
parvat tak hil jaate hain
hindu muslim sikh esaaee
sab hain bhai bhai
bhaichare ke is naate ko
ye jiwan bhar nibhate hain
sath me miljul kar
apna jiwan yen bitate hain
bharat ma ke aankhon ke taare
apni ma ke bhi hai dulaare
phauji hai desh ki shaan
desh seva me jivan kurbaan
maa tujhe salaam...
maa tujhe salaam...


This entry was posted on 1:30 AM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

2 comments:

    संजय भास्कर said...

    LAJWAAB

  1. ... on December 11, 2009 at 10:48 PM  
  2. Anand said...

    thanks sanjay..

  3. ... on December 12, 2009 at 12:43 AM