नशीली आँखें हैं आपकी
इन मे डूब जाने का दिल करता है
रसीले होंठ है आपके
इन्हें चूमने का दिल करता है
जुल्फ़े घटा सावन की
इनमे भीग जाने का दिल करता है
हंसीं मुखड़ाये है आपका
इन्हें आखों मे बसाने का दिल करता है
फूलों का बदन है आपका
इन्हें बाहों मे भर लेने का दिल करता है
कातिल जवानी है आपकी
बस मर जाने को
दिल करता है
ये जो दिल है आपका
इनमे बस जाने का
दिल करता है

nashiilii aankhen hain aapakii
in me doob jaane kaa dil karataa hai
rasiile honth hai aapake
inhen choomane kaa dil karataa hai
julfe ghataa saavan kii
iname bhiig jaane kaa dil karataa hai
hansiin mukhadaaye hai aapakaa
inhen aakhon me basaane kaa dil karataa hai
phoolon kaa badan hai aapakaa
inhen baahon me bhar lene kaa
dil karataa hai
kaatil javaanii hai aapakii
bas mar jaane ko
dil karataa hai
ye jo dil hai aapka
inme bas jaane ka
dil karataa hai


This entry was posted on 9:46 PM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

1 comments:

    संजय भास्कर said...

    बहुत खूब .जाने क्या क्या कह डाला इन चंद पंक्तियों में

  1. ... on January 5, 2010 at 8:58 AM