सुनसान सी सडकों पर
जब कोई चींख उभरती है
तब किसी की आँखें हँसतीं है
तो किसी की आँखें रोती हैं

झोपड़ो पे जब, तेल गिराया जाता है
और उसमे आग लगाया जाता है
तब झोपड़ो के साथ
किसी का पेट भी जलाया जाता है
तब कोई ख़ुशी से हँसता है
तो कोई मातम मनाता है |

जब दंगों में, बच्चे भी कटते हैं
भारत के भविष्य के सपने उजरते हैं
जब भाई भाई ,धर्म के नाम पे लड़ते हैं
तब कहीं कोई तख्ती पलटती है
तो कोई कुर्सी हड़पता है |

इस तरह इंसान जब जब
किसी सतरंज की मोहरे बनते
हैं
तब कहीं
जनता की भीड़ से ही
भगत, सुभाष और गाँधी निकलते हैं
तब कोई उन्हें सर माथे बैठता है
तो कोई डर के मूह छुपता है |

इसलिए हों जाओ सावधान
इसका सिर्फ एक है समाधान
नेता किसी लालच मे नहीं
बल्कि बुद्धि से चुनो श्रीमान
वर्ना होगा हमेशा अपना ही नुकसान |


sunasaan sii sadakon par
jab koee chiinkh ubharatii hai
tab kisii kii aankhen hansatiin hai
to kisii kii aankhen rotii hain

jhopado pe jab, tel giraayaa jaataa hai
aur usame aag lagaayaa jaataa hai
tab jhopado ke saath
kisii kaa pet bhii jalaayaa jaataa hai
tab koee khushii se hansataa hai
to koee maatam manaataa hai |

jab dangon men, bachche bhii katate hain
bhaarat ke bhavishy ke sapane ujarate hain
jab bhaaee bhaaee ,dharm ke naam pe ladate hain
tab kahiin koee takhtii palatatii hai
to koee kursii hadpataa hai |

is tarah insaan jab jab
kisii sataranj kii mohare banate
hain
tab kahiin
janataa kii bhiid se hii
bhagat, subhaash aur gaandhii nikalate hain
tab koee unhen sar maathe baithataa hai
to koee dar ke mooh chhupataa hai |

isaliye hon jaao saavadhaan
isakaa sirph yek hai samaadhaan
netaa kisii laalach me nahiin
balki buddhi se chuno shriimaan
varnaa hogaa hameshaa apanaa hii nukasaan |




This entry was posted on 11:56 AM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

1 comments:

    संजय भास्कर said...

    बहुत खूब .जाने क्या क्या कह डाला इन चंद पंक्तियों में

  1. ... on January 5, 2010 at 8:57 AM