हाल दिल
सुनाने का दिल करता है
यह उन्हें बताने को दिल करता है
रूठे साजन को मानाने को दिल करता है
है प्यार क्या चीज़
यह उन्हें समझाने को दिल करता है
है वों कैसी
तारीफ उन्हें सुनाने का दिल करता है
सपने मे आते हैं वों हमारे
उन्हें बताने को दिल करता है
उनके सूने मांग को सज़ाने को दिल करता है
रसीले होंठ है उनके
जिनके रसों को चुराने का दिल करता है
सुंदर सा मुखड़ा है उनका
जिसे आखों मे बसने का दिल करता है
नज़र लग जाए न दुनिया की उन्हें
सबकी नज़रों से उन्हें बचने को दिल करता है
पर सामने आते ही हमारा हाल होता है ऐसा
शर्म से मर जाने का दिल करता है

haal ye dil
sunaane kaa dil karataa hai
yah unhen bataane ko
dil karataa hai
ruthe saajan ko manane ko dil karta hai
hai pyaar kya cheez
yah unhen samjhane ko dil karta hai
hai vo kaisi
tarif unhen sunane ka dil karta hai
sapne me aate hain vo hamare
unhe bataane ko dil karta hai
unke sunemaang ko sazaane ko dil karta hai
rasile honth hai unke
jinke rason ko churane ka dil karta hai
sundar sa mukhada hai unka
jise aakhon me basane ka dil karta hai
nazar lag jaye na duniya ki unhen
sabki nazron se unhen bachane ko dil karta hai
pr saamne aate hi hamara haal hota hai aisa
sharm se mar jaane kaa dil kartaa hai




This entry was posted on 10:36 PM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

2 comments:

    संजय भास्कर said...

    बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com
    Email- sanjay.kumar940@gmail.com

  1. ... on December 10, 2009 at 11:25 PM  
  2. Anand said...

    dhanyavaad sanjaye ji..

  3. ... on December 11, 2009 at 10:02 PM