जब हम कहते तो हैं
पर वों समझते नहीं
जब वों समझते हैं
तो वों मानते नहीं
जब वों मानते हैं
तो वों पहचानते नहीं
जब वों पहचानते हैं
तो वों इकरार करते नहीं
जब इकरार करते हैं
बहुत देर हों चुकी होती है
तो दोस्तों ,
यही है प्यार का चक्कर |


jab ham kahate to hain
par von samajhate nahiin
jab von samajhate hain
to von maanate nahiin
jab von maanate hain
to von pahachaanate nahiin
jab von pahachaanate hain
to von ikaraar karate nahiin
jab ikaraar karate hain
bahut der hon chukii hotii hai
to doston ,
yahii hai pyaar kaa chakkar |


This entry was posted on 3:15 PM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

1 comments:

    संजय भास्कर said...

    बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

  1. ... on January 5, 2010 at 8:56 AM