महबूबा मिली मुझे, मैं महबूब बना
मेरी किस्मत का तमाशा भी खूब बना
बनू मैं किसी का खिलौना या घुंगरू
यही सोच उसने मुझे बनाया होगा
बना कर मुझको वों भी शरमाया होगा
भेज कर जमी पर मुझको पछताया होगा
मै खुद के काम आया किसी और के
क्या करूँगा वापिस जाकर यह सोच घबराया होगा |

बना कर मुझको अपनी भूल का उसे जो एहसास हुआ
किस्मत मेरी लिखी ऐसी, अपनी लिखाई पे वों नाराज़ हुआ
क्या दे मुझे की मैं खुद मे ही उलझा रहूँ
यही सोच कर खुदा ने मुझे, गमे--जाम थमाया होगा
अंतिम वक़्त मेरा भी होगा, मुझको भी रुखसत होना
होगा
पर लगे किसी को मेरी तक़दीर की हवा
भी
यही सोचकर लोगो ने "आनंद" को दफनाया होगा |

mahaboobaa milii n mujhe, n mai mahaboob banaa
merii kismat kaa tamaashaa bhii khoob banaa
banoo main kisii kaa khilounaa yaa ghungaroo
yahii soch usane mujhe banaayaa hogaa
banaa kar mujhako von bhii sharamaayaa hogaa
bhej kar jamii par mujhako pachhataayaa hogaa
n mai khud ke kaam aayaa n kisii aur ke
kyaa karoongaa vaapis jaakar yah soch ghabaraayaa hogaa |

banaa kar mujhako apanii bhool kaa use jo yehasaas huaa
kismat merii likhii aisii, apanii likhaaee pe von naaraaj huaa
kyaa de mujhe kii main khud me hii ulajhaa rahoon
yahii soch kar khudaa ne mujhe, game-ye-jaam thamaayaa hogaa
antim vaqt meraa bhii hogaa, mujhako bhii rukhasat honaa
hogaa
par lage n kisii ko merii taqadiir kii havaa
bhii
yahii sochakar logo ne "aanand" ko daphanaayaa hogaa |


This entry was posted on 6:25 PM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

3 comments:

    संजय भास्कर said...

    कम शब्दों में बहुत सुन्दर कविता।
    बहुत सुन्दर रचना । आभार

    ढेर सारी शुभकामनायें.

    SANJAY KUMAR
    HARYANA
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

  1. ... on December 25, 2009 at 12:31 AM  
  2. संजय भास्कर said...

    प्रिय ब्लॉगर बंधू,
    नमस्कार!

    आदत मुस्कुराने की तरफ़ से
    से आपको एवं आपके परिवार को क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    Sanjay Bhaskar
    Blog link :-
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

  3. ... on December 25, 2009 at 12:31 AM  
  4. Raju mahto said...

    Jabardast Anand

  5. ... on May 29, 2010 at 4:59 PM