मै खुद्द ज़मी'न हूँ'न मगर ज़र्फ़ असमान का है
के टूट कर भी मेरा हौसला चट्टान का है

बुरा न मान मेरे हर्फ़ ज़हर ज़हर सही
मै क्या करू'न क यही जायेका ज़बान का है

बिछार्हते वक़्त से मै अब तलक नही रोया
वो कह गया था यही वक़्त इम्तेहान का है

हर एक घर पे मुसल्लत है दिल की वीरानी
तमाम शहर पे साया मेरे मकान का है

ये और बात अदालत है बे-खबर वरना
तमाम शहर चर्चा मेरे बयान का है

असर दिखा न सका उसके दिल में मेरा
ये तीर भी किसी टूटी हुई कमान का है

क़फ़स तौ खैर मुक़द्दर मे था मगर मोहसिन
हवा मे शोर अभी तक मेरी उडान का है

mai khudd zamee'n hoo'n magar zarf asman ka hai
k toot karr bhi mera hausla chattan ka hai

bura na maan merey harf zehr zehr sahii
mai kya karoo'n k yahi zaayeqa zabaan ka hai

bichharhte waqt se mai ab talak nahii roya
wo keh gaya tha yahi waqt imtehaan ka hai

harr aik ghar pe musallat hai dill ki veeraani
tamam shehr pe saya merey makaan ka hai

ye aur baat adalat hai be-khabar warna
tamam shehr mai charcha merey bayaan ka hai

asar dikha na saka uskey dill mai ashk mera
ye teer bhi kisi tutii hui kamaan ka hai

qafas tau khair muqaddar mai tha magar MOHSIN
hawa mai shaur abhi tak meri urrhan ka hai

"Unknown"

kavyalok.com

Please visit, register, give your post and comments.



This entry was posted on 4:58 PM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

2 comments:

    Shekhar Suman said...

    waah...bahut hi lajawab...
    behatreen...
    mere blog par bhi aapka intzaar hai...

  1. ... on September 2, 2010 at 8:08 PM  
  2. Coral said...

    बेहतरीन ! हर एक पंक्ति लाजवाब ...

    _______________
    एक ब्लॉग में अच्छी पोस्ट का मतलब क्या होना चाहिए ?

  3. ... on September 3, 2010 at 7:22 AM