बस इतनी सी इनायत मुझ पे एक बार कीजिये
कभी आ के मेरे ज़ख्मों का दीदार कीजिये

हो जाए बेगाने आप शौक़ से सनम
आपके हैं आपके रहेगे ऐतबार कीजिये

पढ़ने वाले ही डर जाएँ देख कर इसे
किताब-ए-दिल को इतना न दागदार कीजिये

न मजबूर कीजिये, के मैं उनको भूल जाऊं
मुझे मेरी वफाओं का न गुनेहगार कीजिये

इन जलते दीयों को देख कर न मुस्कुराइए
ज़रा हवाओं के चलने का इंतज़ार कीजिये

करना है इश्क आपसे करते रहेंगे हम
जो भी करना है आपको मेरे सरकार
कीजिये

Bas itni si inaayat mujh pe aik baar kijiye
Kabhi aa ke mere zakhmon ka dedaar kijiye

Ho jaaye begaane aap shauq se sanam
Aapkee hain aapkee rahegey aitbaar kijiye

Parhne waale hi darr jaayen dekh kar ise
Kitaab-e-dil ko itnaa na daagdaar kijiye

Na majboor kijiye, ke main unko bhool jaaun
Mujhe meri wafaaon ka na gunehgaar kijiye

In jalte diyon ko dekh kar na muskuraaiye
Zara hawaaon ke chalne ka intezaar kijiye

Karna hai ishq aapse karte rahenge hum
Jo bhi karna hai aapko mere sarkaar
kijiye

kavyalok.com

Please visit, register, give your post and comments.



This entry was posted on 12:00 PM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

2 comments:

    Mrs. Asha Joglekar said...

    न मजबूर कीजिये, के मैं उनको भूल जाऊं
    मुझे मेरी वफाओं का न गुनेहगार कीजिये

    इन जलते दीयों को देख कर न मुस्कुराइए
    ज़रा हवाओं के चलने का इंतज़ार कीजिये
    वाह, वाह, बेहद सुंदर ।

  1. ... on September 1, 2010 at 5:20 PM  
  2. Anand said...

    dhanyavad asha ji...

    aapse umeed hai ki aap www.kavyalok.com pe bhi avashaya aayengi..

  3. ... on September 7, 2010 at 7:03 PM