जब बोलते हैं आप, तो लगते हैं
जैसे झड़ रहे हो अम्बर के तारे
जब हँसते है आप, तो लगते हैं
अध् खिली कलियों सी प्यारे
जब चलते हैं आप, तो लगते हैं
जैसे आई हो पतझड़ में बहारें
हब लहराते हैं आपके बाल, तो लगते हैं
जैसे सावन के घटा सारे
जब आप आती हैं पास हमारे
पुरे हो जाते है दिल के अरमान सारे
आप कैसी लगती है ? लगती हैं
जैसे उतर आई हो रति धरती पर हमारे

jab bolate hain aap, to lagate hain
jaise jhad rahe ho ambar ke taare
jab hansate hai aap, to lagate hain
adh khilii kaliyon sii pyaare
jab chalate hain aap, to lagate hain
jaise aaee ho patajhad men bahaaren
hab laharaate hain aapake baal, to lagate hain
jaise saavan ke ghataa saare
jab aap aatii hain paas hamaare
pure ho jaate hai dil ke aramaan saare
aap kaisii lagatii hai ? lagatii hain
jaise utar aaee ho rati dharatii par hamaare


This entry was posted on 7:06 AM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.