कोई आया न आयेगा लेकिन
क्या करें गर न इंतज़ार करें
Ko_ii aayaa na aayegaa lekin
Kyaa karen gar na intazaar karen

फिराक गोरखपुरी Firaq Gorakhpuri

होने को फसल-ए-गुल भी है दावत-ए-ऐश है मगर
अपनी बहार का मुझे आज भी इंतज़ार है
Hone ko fasl-e-gul bhii hai daavat-e-aish hai magar
Apanii bahaar kaa mujhe aaj bhii intazaar hai

याह्या जस्दंवाल्ला Yahya Jasdanwalla

कहाँ है तू के तेरे इंतज़ार में ई दोस्त
तमाम रात सुलगते रहे दिल के वीराने
Kahaan hai tuu ke tere intazaar me ai dost
Tamaam raat sulagate rahe dil ke viiraane

नासिर काज़मी Nasir Kazmi

आज अश्को का तार टूट गया
रिश्ता-ए-इंतज़ार टूट गया
Aaj ashkon kaa taar TuuT gayaa
Rishtaa-e-intazaar TuuT gayaa

सैफुद्दीन सैफ Saifuddin Saif

टूटी जो आस जल गए पलकों पे सौ चिराग
निखारा कुछ और रंग शब्-ए-इंतज़ार का
TuuTii jo aas jal gaye palko.n pe sau chiraag
Nikharaa kuchh aur rang shab-e-intazaar kaa

मुमताज़ मिर्ज़ा Mumtaz Mirza

गम-ए-हयात से दिल को अभी निजात नही
निगाह-ए-नाज़ से कह दो की इंतज़ार करे
Gam-e-hayaat se dil ko abhii nijaat nahii.n
nigaah-e-naaz se kah do ki intazaar kare

शकील बदायुनी Shakeel Badayuni

तमाम उम्र तेरा इंतज़ार हमनें किया,
इस इंतज़ार में किस किस से प्यार हमने किया|
Tamam umr tera intezar humnein kiya,
Is intezar me kis kis se pyar humne kiya.

अज्ञात Unknown

कुछ दिन ए भी रंग रहा इंतज़ार में
आखँ उठ गई जिधर बस उधर देखते रहे
kuchh din ye bhii rang rahaa intazaar me
aakhan uTh gaii jidhar bas udhar dekhate rahe

असर लुच्क्नावी Asar Lucknawi

जिस मोड़ पर किये थे हम इंतज़ार बरसों
उस से लिपट के रोये दीवानावार बरसों
jis mod par kiye the ham intazaar barason
us se lipat ke roye diivaanaavaar barason

सुदर्शन फाकिर Sudarshan Faakir

तमाम उम्र तेरा इंतज़ार कर लेंगे
मगर ए रंज रहेगा की ज़िंदगी कम है
tamaam umr teraa intazaar kar lenge
magar ye ranj rahegaa ki zindagii kam hai

शहीद सिद्दीकी Shahid siddiikii

kavyalok.com

Please visit, register, give your post and comments.










This entry was posted on 2:24 PM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

1 comments:

    मनोज कुमार said...

    जिस मोड़ पर किये थे हम इंतज़ार बरसों
    उस से लिपट के रोये दीवानावार बरसों
    बहुत अच्छा संग्रह आभार!

  1. ... on July 30, 2010 at 5:56 PM