मोहब्बत तो हम दिल से करते थे
पर एतिहातन हमने ख़ुद पे एतबार नही किया
एहसास होता था अक्सर उनकी चाहत का भी
पर एतिहातन हमने कभी इकरार नही किया
निगाहें मिल तो जाती थी कई बार उनसे
पर एतिहातन हमने कभी कोई सवाल नही किया
वो अक्सर मिलते थे नए बहने के साथ
पर एतिहातन हमने उन्हें दिल का राज़दार नही किया
यूं तो ऐतबार वो हमपे करते थे बहुत
पर एतिहातन हमने ख़ुद को उनका हकदार नही किया

mohabbat to ham dil se karate the
par yetihaatan hamane khud pe yetabaar nahii kiyaa
yehasaas hotaa thaa aksar unakii chaahat kaa bhii
par yetihaatan hamane kabhii ikaraar nahii kiyaa
nigaahen mil to jaatii thii kaee baar unase
par yetihaatan hamane kabhii koee savaal nahii kiyaa
vo aksar milate the naye bahane ke saath
par yetihaatan hamane unhen dil kaa raajdaar nahii kiyaa
yoon to aitabaar vo hamape karate the bahut
par yetihaatan hamane khud ko unakaa hakadaar nahii kiyaa


This entry was posted on 3:56 AM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.

1 comments:

    संजय भास्कर said...

    भावों को इतनी सुंदरता से शब्दों में पिरोया है
    सुंदर रचना....

    Sanjay kumar
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

  1. ... on January 5, 2010 at 8:59 AM