तुम्हारी याद के जब ज़ख्म भरने लगते हैं

किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं


हदीस-ए-यार के उन्वा निखारने लगते हैं

तोहर हरीम में गेसू सँवारने लगते हैं


हर अजनबी हमें महरम दिखाई देता है

जो अब भी तेरी गली से गुजरने लगते हैं


सबा से करते हैं ग़ुरबत-नसीब ज़िक्र-ए-वतन

तो चश्म-ए-सुबह में आंसू उभरने लगते हैं


वो जब भी करते हैं इस नुत्क-ओ-लैब की

बखियागरी फ़ज़ा में और भी नाघ्मे बिखरने लगते हैं


दर-ए-क़फ़स पे अँधेरे की मुहर लगती है

तो ‘फैज़’ दिल में सितारे उतरने लगते हैं


Tumhaari yaad ke jab zakhm bharne lagte haiN

Kisi bahaane tumheN yaad karne lagte haiN


Hadees-e-yaar ke unvaa nikharne lagte haiN

Tohar hareem meN gesu saNwarne lagte haiN


Har ajnabi hameN mehram dikhayi deta hai

Jo ab bhi teri gali se guzarne lagte haiN


Sabaa se karte haiN gurbat-naseeb zikr-e-watan

To chashm-e-subah meN ansoo ubharne lagte haiN


Vo jab bhi karte hain is nutq-o-lab ki bakhiyaagari

Fazaa mei aur bhi naghme bikharne lagte haiN


Dar-e-qafas pe andhere ki muhar lagti hai

To ‘Faiz’ dil meN sitaare utarne lagte haiN


Faiz Ahmed Faiz

http://kavyalok.com/

Please visit, register, give your post and comments।



This entry was posted on 11:13 AM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.