जाने क्या क्या एहसास होते हैं अब
जाने कब जागते हैं और सोते हैं अब
एक वो हैं जिन्हें ख़बर भी नही
और हम हर ख़बर में होते हैं अब

jaane kyaa kyaa yehasaas hote hain ab
jaane kab jaagate hain aur sote hain ab
yek vo hain jinhen khbar bhii nahii
aur ham har khbar men hote hain ab


This entry was posted on 4:14 AM and is filed under . You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0 feed. You can leave a response, or trackback from your own site.